Sanchayita Bhattacharjee Know as Sanchayita Ruth Lenin का पूरा मामला हिंदी में।

Sanchayita Bhattacharjee Know as Sanchayita Ruth Lenin का पूरा मामला हिंदी में।

Sanchayita Ruth Lenin, जिन्हें Sanchayita Bhattacharjee भी कहा जाता है, इंटरनेट पर एक वायरल विषय बन चुकी है। इस युवती के कारण ही चर्चा हो रही है, क्योंकि उसने कुछ ऐसा किया है जिससे सभी हैरान हो गए हैं।

सोशल मीडिया पर Sanchayita Bhattacharjee (Sanchayita Ruth Lenin) ने अपने कैंसर के बारे में वायरल किया। उन्होंने दावा किया कि वह असम के आदिवासी इलाके में रहने वाली हैं और बहुत गरीब हैं। उनके पास इलाज के लिए रुपये नहीं हैं, लेकिन उन्हें देश-विदेश से धन मिला है। इसके बाद, उन्होंने बताया कि उन्हें स्टेज-4 कैंसर है और उनकी मौत हो गई है।

Sanchayita Bhattacharjee Know as Sanchayita Ruth Lenin

लेकिन बाद में सामने आया कि संचाइता को कभी कैंसर ही नहीं था और न ही उनकी मौत हुई थी। उन्होंने फेक नाम का उपयोग करके कैंसर की बात सिर्फ धन उगाही के लिए की थी। इस खुलासे के बाद, उनके दोस्तों ने ही सोशल मीडिया पर उनके बारे में खुलासा किया।

इसे साबित करने के लिए, संचाइता ने अपने दोस्तों को भी अंधेरे में रखा और उनके जरिए मदद की गुहार लगवाई। यह युवती इसे इतनी होशियारी से किया कि उसके दोस्तों तक भी इसका पता नहीं चला कि यह सब झूठ था।

Sanchayita Bhattacharjee (Sanchayita Ruth Lenin) Case

Sanchayita Ruth Lenin ने अपने लिए ही नहीं, बल्कि किसी और के जरिए भी धन उगाही की एक अजीब मोड़ में कार्रवाई की। उसकी असली पहचान, उसके ही दोस्तों ने सोशल मीडिया पर उजागर की। दोस्तों के अनुसार, उसने उन्हें भी फ्रॉड करवाने की तकनीक सिखाई थी।

See also  Nothing 3 Phone : Price, Rumored Specs & More

रिया मुखर्जी और अंकुर नामक दो दोस्तों ने संचाइता के धोखाधड़ी में खुलासा किया। संचाइता के ठगी गए दोस्त अंकुर, जो पशु अधिकार कार्यकर्ता हैं, ने बताया कि कैसे उसने लोगों को मूर्ख बनाया।

अंकुर ने बताया कि उनका प्यार संचाइता के साथ अगस्त 2022 में शुरू हुआ था और उसके बाद संचाइता ने 2023 में उन्हें बताया कि उसे स्तन कैंसर है। उन्होंने इस बात को सुनकर उसका समर्थन करने का निर्णय लिया और धन जुटाने का काम किया।

Sanchayita Bhattacharjee (Sanchayita Ruth Lenin) दोस्तों ने खोला ठगी का राज

सर्जरी से पहले ही उसकी मौत की खबर आई थी, लेकिन बाद में पता चला कि उसकी मौत नहीं हुई है। सच्चाई की जाँच में उसके दोस्तों ने चिकित्सा दस्तावेजों में विसंगतियों को उजागर किया और संचाइता के फ्रॉड की पोल खोली।

अंकुर ने बताया कि संचाइता ने डेंगू परीक्षण रिपोर्ट का उपयोग करके एक जाली कैंसर रिपोर्ट बनाई थी। उसने अपनी विशेषज्ञता से उसे बड़ा बनाया था, जिससे उसका धन और समर्थन बढ़ सके।

इसके बाद की जांच में पता चला कि Sanchayita Ruth Lenin ने डेंगू परीक्षण रिपोर्ट का उपयोग एक टेम्पलेट के रूप में किया था, अपने असली नाम के साथ बायोप्सी के परिणामों को जाली बनाया था और इसे रूथ लेनिन नाम में बदल दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *